काशी

गंगा के तट पर नाव चार ।
जाड़े की धूप इस पार उस पार,
आस्था बरकरार, महिमा अपरम्पार ।

धूप में आंवले का अचार ।
सीढ़ीयों पर  कंपकंपाते भिखारी बीमार,
अपनी आग में जलाते इश्तेहार ।

कढाई  से निकलती गरम कचौड़ी ।
रिक्शे वाले की सुबह सुबह तकरार,
चाशनी  सी मीठी है जलेबी ।

चौराहे पर ज्योतिष की दुकान ।
संकट मोचन में बंदरों की भरमार,
सभी सैलानी हैं हैरान परेशान ।

तीन पुरवा गरम गरम चाय ।
विश्वनाथ गली में शुरू होते व्यापार,
यही है काशी का प्यार ।

 

Photo courtesy : Laurent Goldstein

http://on.fb.me/aFfyY7

Advertisements

2 comments

  1. Shivam Pandey

    Poora bada waala “fan” ban gaya main to…!! yaad aa gyi …. banaras i miss u…manu i miss u more…!!

Leave a Reply

Fill in your details below or click an icon to log in:

WordPress.com Logo

You are commenting using your WordPress.com account. Log Out / Change )

Twitter picture

You are commenting using your Twitter account. Log Out / Change )

Facebook photo

You are commenting using your Facebook account. Log Out / Change )

Google+ photo

You are commenting using your Google+ account. Log Out / Change )

Connecting to %s

%d bloggers like this: